सीबीआई ने एक घोटाले की जारी जॉंच में 20 आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 09.09.2019

सीबीआई ने बंगलौर की नामित अदालत में भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 406, 409, 420, 477-ए के तहत बंगलौर स्थित निजी कम्‍पनी के प्रबन्‍ध निदेशक; इसी कम्‍पनी के 07 निदेशक; 05 सदस्‍य; एक लेखा परीक्षक; बंगलौर स्थित 05 निजी कम्‍पनी समूह तथा एक निजी व्‍यक्ति सहित 20 आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

सीबीआई ने राज्‍य पुलिस के निवेदन एवं इसके अतिरिक्‍त भारत सरकार से प्राप्‍त अधिसूचना के आधार पर बंगलौर एवं अन्‍य क्षेत्रों से सम्‍बन्धित घोटाले के सम्‍बन्‍ध में 30 अगस्‍त, 2019 को एक मामला दर्ज किया और कर्नाटक पुलिस द्वारा पूर्व में दर्ज मामले की जॉंच को अपने हाथों में लिया।

ऐसा आरोप था कि बंगलौर स्थित संस्‍थाओं के समूह के संस्‍थापक निदेशक ने उच्‍च मुनाफे के वादे पर विभिन्‍न पॉन्‍जी स्‍कीमों यथा मासिक योजना, शिक्षा योजना, विवाह योजना आदि में निवेशों के द्वारा जनमानस से अवैध रूप से धनराशि एकत्र किया। ऐसा आगे आरोप है कि मीडिया, प्रचार/ प्रसार, धार्मिक विद्धानों तथा अन्‍यों के माध्‍यम से बड़े पैमाने पर आरोपी व्‍यक्तियों ने प्रचारित प्रसारित करवाया। ऐसा भी आरोप था कि जमाओं/ निवेशों के तौर पर एकत्र धनराशि को किसी वास्‍तविक व्‍यापारिक गतिविधियों में प्रयोग न कर आरोपियों ने निवेशकों के मध्‍य लाभ के रूप में बॉंटने में प्रयोग किया। ज्‍यादातर जमाओं को आरोपियों के द्वारा अपने व्‍यक्तिगत एवं पारिवारिक सदस्‍यों के नाम पर सम्‍पत्ति बना कर कथित रूप से गबन किया। आरोपियों ने कथित रूप से अपने अवैध गतिविधियों को संचालित करने के लिए सुरक्षा धनराशि के तौर पर लोक सेवकों एवं अन्‍यों को भारी घूस दिया।

मामले को हाथ में लेने के पश्‍चात, सीबीआई ने जॉंचकर्ताओं जिनकी सहायता के लिए चार्टेड अकाउन्‍टेन्‍ट्स, फोरेन्सिक ऑंडिटर, कम्‍प्‍यूटर फोरेन्सिक एक्‍सपर्ट्स तथा बैंकर्स शामिल है, को समाहित करते हुए 12 सदस्‍यों की मल्‍टी डिसपिलनरी इन्‍वेस्‍टीगेशन टीम (एम.डी.आई.टी.) बनायी।

आगे की जॉंच जारी है।

जनमानस को याद रहे कि उपरोक्‍त विवरण सीबीआई द्धारा की गयी जॉंच व इसके द्धारा एकत्र किये गये तथ्‍यों पर आधरित है। भारतीय कानून के तहत आरोपी को तब तक निर्दोष माना जायेगा जब तक कि उचित विचारण के पश्‍चात दोष सिद्ध नही हो जाता।

********