सीबीआई ने तथाकथित अवैध रेत खनन से सम्बंन्धित दो अलग-अलग मामले में उत्तेर प्रदेश के 08 शहरों/ जिलों में स्थित 12 स्था नों पर तलाशी ली एवं भारी मात्रा में नकद बरामद किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 10.07.2019

सीबीआई ने उत्त र प्रदेश में तथाकथित अवैध रेत खनन से सम्बजन्धित दो मामले दर्ज किए एवं उत्ततर प्रदेश के 08 शहरों/ जिलों में स्थित 12 स्थालनों पर तलाशी ली।

भारतीय दण्डष संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 379 एवं 420 तथा भ्रष्टािचार निवारण अधिनियम, 2018 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) के तहत फतेहपुर (उत्त2र प्रदेश) के तत्का3लीन जिला अधिकारी तथा 06 अन्यी जिसमें तत्काालीन खनन मंत्री, उत्त‍र प्रदेश सरकार; तीन लोक सेवकों, उत्त र प्रदेश सरकार; दो निजी व्येक्तियों एवं अज्ञात लोक सेवकों व अन्यस अज्ञात व्यकक्ति शामिल है, के विरूद्ध मामला दर्ज किया।

जनहित याचिका संख्याी 22482/ 2016 एवं जनहित याचिका संख्या 29115/ 2016 में इलाहाबाद उच्चय न्या्यालय के आदेश पर पूर्व में प्राथमिक जॉंच पड़ताल दर्ज की गई। ऐसा आरोप था कि फतेहपुर के तत्काालीन जिला अधिकारी, उत्तजर प्रदेश सरकार के तत्कासलीन खनन मंत्री तथा अन्य लोक सेवकों ने निजी व्यकक्तियों के साथ षड़यंत्र में शामिल हुए एवं फतेहपुर (उत्त र प्रदेश) निवासी दो निजी व्यतक्तियों के पक्ष में 03 खनन पट्टे का नवीकरण कर दिया। ऐसा आगे आरोप है कि फतेहपुर के तत्कातलीन जिलाधिकारी ने कपटपूर्ण तरीके से उक्त् निजी व्याक्तियों के पक्ष में 03 रेत खनन पट्टे का नवीकरण के अवैध आदेशों के अनुपालन में विलेख निष्पा्दित कर दी। ये रेत खनन पट्टे कथित रूप से उत्तीर प्रदेश सरकार के आदेश, जिसमें साफ निर्देश है कि इस तरह के सभी पट्टे ई-निविदा प्रक्रिया के माध्य म से दी जानी चाहिए, के उल्लंतघन में कथित रूप से नवीकृत कर दिए गए।

भारतीय दण्डू संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 379,403, 420, 467 एवं 468 तथा भ्रष्टा चार निवारण अधिनियम की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) के तहत देवरिया (उत्तकर प्रदेश) के तत्काकलीन जिला अधिकारी तथा 08 अन्यड सहित जिसमें देवरिया (उत्र्ेवक प्रदेश) के तत्का‍लीन अपर जिलाधिकारी; तीन लोक सेवकों; चार निजी व्यतक्तियों तथा अन्ये अज्ञात लोक सेवकों और निजी व्य क्तियों के विरूद्ध एक अन्यि मामला दर्ज किया।

जनहित याचिका संख्याो 22482/ 2016 एवं जनहित याचिका संख्यां 29115/ 2016 में इलाहाबाद उच्चख न्यातयालय के आदेश पर पूर्व में प्राथमिक जॉंच पड़ताल दर्ज की गई। ऐसा आरोप था कि देवरिया (उत्तयर प्रदेश) के तत्काजलीन जिला अधिकारी अपने कार्यालय के अन्य् कर्मियों तथा निजी व्यनक्तियों के साथ मिलकर आपराधिक षड़यंत्र किया और कपटपूर्ण तरीके से देवरिया के निवासी दो निजी व्याक्तियों के पक्ष में 02 रेत खनन पट्टे के नवीकरण का अनुमोदन कर दिया। ऐसा आगे आरोप था कि देवरिया के तत्काालीन खनन निरीक्षक ने अपने पद का दुरूपयोग किया एवं सूक्ष्मं खनिजों के ढुलाई हेतु बने एम.एम.-11 फार्मों का गबन किया। इन रेत खनन पट्टों को उत्तमर प्रदेश सरकार के आदेश जिसमें साफ निर्देश है कि इस तरह के सभी पट्टे ई-निविदा प्रक्रिया के माध्याम से दी जानी चाहिए, के उल्लं घन में कथित रूप से नवीकृत कर दिए गए।

दो अलग-अलग मामलों में बुलन्दसशहर, लखनऊ, फतेहपुर, आजमगढ़ इलाहाबाद, नोएडा, गोरखपुर, देवरिया आदि सहित 12 स्थाआनों पर आज तलाशी ली गई। तत्काालीन जिला अधिकारी फतेहपुर (वर्तमान में बुलन्दनशहर के जिलाधिकारी के तौर पर पदस्था) के परिसर से 49 लाख रू. नकद; अपर जिला अधिकारी, देवरिया (वर्तमान में मुख्यध विकास अधिकारी, आजमगढ़ के तौर पर पदस्थल) के परिसर से 10 लाख रू. का नकद तथा तत्कायलीन जिलाधिकारी, देवरिया (वर्तमान में प्रशिक्षण एवं रोजगार, लखनऊ के निदेशक के तौर पर पदस्थर) के परिसर से सम्प त्ति से सम्ब न्धित दस्तारवेज भी बरामद हुए।

आगे की जॉंच जारी है।

********