सीबीआई ने बलात्‍कार सहित कुछ आरोपो पर ईश्‍वरीय आध्‍यात्मिक विद्यालय, दिल्‍ली के तत्‍कालीन प्रमुख एवं उनके सहयोगी के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 27.06.2019

सीबीआई ने मुख्‍य महानगर दण्‍डाधिकारी, राऊज एवेन्‍यु कोर्ट काम्‍प्‍लेक्‍स, दिल्‍ली की अदालत में ईश्‍वरीय आध्‍यात्मिक विद्यालय, विजय विहार, फेज-।, रोहिणी, दिल्‍ली के तत्‍कालीन प्रमुख के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376(2) एवं उनके सहयोगी के विरूद्ध, भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 109 के साथ पठित धारा 376(2) (एन) के तहत आरोप पत्र दायर किया।

सीबीआई ने सिविल समादेश याचिका संख्‍या 11382/ 2017 में दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय के दिनांक 20.12.2017 के आदेश के अनुपालन में दिनांक 03.01.2018 को मामला दर्ज किया एवं एक शिकायत के आधार पर बलात्‍कार, आपराधिक धमकी एवं गलत तरीके से कैद करने की घटनाओं पर ईश्‍वरीय आध्‍यात्मिक विद्यालय के प्रमुख के विरूद्ध विजय विहार पुलिस स्‍टेशन, दिल्‍ली में दिनांक 19.01.2017 को पूर्व में दर्ज शिकायतकर्ता के मामले को अपने हाथों में लिया।

जॉंच से पता चला कि आरोपी ने ईश्‍वरीय आध्‍यात्मिक विद्यालय के विभिन्‍न शाखाओं में अलग-अलग अवसरों पर वर्ष 2011 से 2015 के मध्‍य कथित रूप से शिकायतकर्ता के साथ बलात्‍कार किया तथा उसकी सहायक, शिकायतकर्ता को लखनऊ ले गयी और कथित रूप से पीडि़ता को दुध में मिलाकर कुछ नशीला पदार्थ दिया तथा उसे आरोपी के पास जाने को कहा।

जॉंच के पश्‍चात, आरोप पत्र दायर हुआ।

जनमानस को याद रहे कि उपरोक्‍त विवरण सीबीआई द्धारा की गयी जॉंच व इसके द्धारा एकत्र किये गये तथ्‍यों पर आधारित है। भारतीय कानून के तहत आरोपी को तब तक निर्दोष माना जायेगा जब तक कि उचित विचारण के पश्‍चात दोष सिद्ध नही हो जाता।

********