उप-निरीक्षक कैडेटों का 23 वॉं बैच सीबीआई अकादमी से पास आऊट हुआ

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 14.06.2019

सीबीआई के उप-निरीक्षकों कैडेटों के 23 वें बैच का अंलकरण समारोह (INVESTITURE CEREMONY) आज सीबीआई अकादमी, गाजि़याबाद में सम्‍पन्‍न हुआ। निदेशक, सीबीआई श्री ऋषि कुमार शुक्‍ला, समारोह के दौरान मुख्‍य अतिथि रहे। इस अवसर पर बोलते हुए, श्री शुक्‍ला ने कैडेटों को बधाई दी एवं कहा कि कैडेटों की बौद्धिक एवं शारीरिक योग्‍यता परीक्षण के लिए, प्रशिक्षण उत्‍कृष्‍ट पैमाना रहा है।

निदेशक, सीबीआई ने आगे बताया कि जैसा कि कैडेट अपने जीवन के इस चरण के सफलता पूर्वक पूर्ण होने पर खुशी मना रहे है तो उन्‍हे याद रखना चाहिए कि अब से उनके कन्‍धों पर बड़ी जिम्‍मेदारियॉं होगी। श्री शुक्‍ला ने आगे जोर देकर कहा कि इस मोड़ पर, जबकि आप अपना कैरियर सीबीआई में प्रारम्‍भ कर रहे हैं, आपका सकारात्‍मक दृष्टि कोण एवं दृढ़ता, संस्‍था की प्रतिष्‍ठा को नई ऊचॉंईयों तक ले जाने में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएगा। श्री शुक्‍ला ने माना कि पिछले कुछ वर्षों में कई उदाहरण हैं, जिसमें पीडि़त व्‍यक्ति/ व्‍यक्तियों एवं उनके निकट रिश्‍तेदार, विभिन्‍न जॉंच एजेन्सियों के द्वारा की गई जॉंच के परिणामों से संतुष्‍ट नही होते एवं सीबीआई को जॉंच स्‍थानान्‍तरित करने की मॉंग करते है। यह सीबीआई में जनमानस के दृढ़ विश्‍वास को दर्शाता है जो जॉंच एजेन्‍सी के तौर पर सत्‍यानिष्‍ठा और निष्‍पक्षता का उदाहरण पेश करती है।

13 उप-निरीक्षक परिवीक्षार्थी (Probationers) जो 22 अक्‍टूवर, 2018 को सीबीआई अकादमी से जुड़े, को 32 सप्‍ताह का कठोर एवं सतत प्रशिक्षण दिया गया। इस बैच में एक महिला अधिकारी सहित 13 कैडेट है जो कि एस.एस.सी. की संयुक्‍त स्‍नातक स्‍तर परीक्षा एवं विभागीय परीक्षा के माध्‍यम से चयनित हुए है। कैडेटों को कानून एवं जॉंच कौशल, भ्रष्‍टाचार निरोधक मामले की जॉंच, विभिन्‍न प्रकार के पारम्‍परिक अपराधों, असूचना को जुटाने, मादक दवाओं से सम्‍बन्धित मामले, मानव तस्‍करी, वन्‍य जीव अपराधों, साइबर अपराधों से सम्‍बन्धित मामले की जॉंच, मोबाइल फोरेन्सिक, फोरेन्सिक मेडीसन, फोरेन्सिक साइन्‍स, बैंक जालसाजी, प्रतिभूति घोटाले, अन्‍य तरह के आर्थिक अपराधों आदि में प्रशिक्षित किया गया। पाठ्यक्रम का उद्देश्‍य, व्‍यवसायिक सत्‍यनिष्‍ठा एवं ईमानदारी का उच्‍चतम मानक, मानव अधिकारों के लिए सम्‍मान, व्‍यवसायिकता का महत्‍वपूर्ण घटक तथा अनुशासन की बेहतर समझ को उनके मन मस्तिष्‍क में बैठाना भी है।

समारोह के दौरान निदेशक सीबीआई ने कैडेटों को पुरस्‍कार एवं प्रमाण पत्र वितरित किए। उत्‍कृष्‍ट परिवीक्षाधीन हेतु निदेशक की ट्रॉफी श्री शशांक सिंह राठौर एवं द्वितीय पुरूष्‍कार के लिए निदेशक की ट्राफी, श्री हरीश कुमार को प्रदान किया।

श्री शुक्‍ला ने दो हैण्‍डबुक; ‘‘ स्‍टैण्‍डर्ड आपरेटिंग प्रोसिजर फॉर इन्‍वेन्‍टीगेशन ऑफ बैंक फ्राड्स ’’ और ‘‘ हैण्‍डबुक ऑन लॉज एण्‍ड प्रोसिजर ऑफ बैंकिग ’’ का नवीनतम संस्‍करण जारी किया।

संयुक्‍त निदेशक (प्रशिक्षण), श्री शरद अग्रवाल ने पाठ्यक्रम रिर्पोट पेश की एवं कैडेटों को स्‍वामी विवेकानन्‍द के प्रसिद्व प्रेरक शब्‍दों ; ‘‘ उठो, जागो एवं लक्ष्‍य प्राप्ति तक न रूको, का उद्धरण देकर समझाया। उन्‍होने इस अवसर पर उपस्थित सभी अतिथियों , सीबीआई के वरिष्‍ठ अधिकारियों , अन्‍य विभागों के अधिकारियों, कैडेटों के पारिवारिक सदस्‍यों तथा अन्‍य उपस्थित कार्मिकों को धन्‍यवाद ज्ञापित किया।

********