अलग-अलग मामलों में बार काउंसिल ऑफ इण्डिया के तत्‍कालीन सदस्‍य को दो वर्ष की कठोर कारावास एवं एक रेलवे कर्मी को चार वर्ष की कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 01.03.2019

सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, पंचकूला (हरियाणा) ने बार काउंसिल ऑफ इण्डिया,नई दिल्‍ली के तत्‍कालीन सदस्‍य श्री दौलतराम शर्मा को 30,000 रू. के जुर्माने सहित 02 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई ने भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी एवं भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 7, 12, 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) के तहत बार काउंसिल ऑफ इण्डिया के दो सदस्‍यों एवं स्‍वामी देवी दयाल लॉ कालेज, पंचकूला (हरियाणा) के उपाध्‍यक्ष के विरूद्ध दिनांक 18.04.2011 को मामला दर्ज किया। एक मामला दर्ज हुआ जिसमें आरोप है कि आपस के आपराधिक षड़यंत्र मे बरवाला (हरियाणा) स्थित कालेज में विधि पाठ्यक्रम को जारी रखने के लिए सकारात्‍मक निरीक्षण रिपोर्ट देने हेतु विधि कालेज के उपाध्‍यक्ष से आरोपी ने 1.25 लाख की रिश्‍वत की मॉंग की।

गहन जॉंच के पश्‍चात, आरोपी व्‍यक्तियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर हुआ। मामले के विचारण के दौरान, बार काउंसिल ऑफ इण्डिया के एक सदस्‍य की मृत्‍यु हो गई।

एक अन्‍य मामले में, सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, जबलपुर (मध्‍य प्रदेश) ने गैर अनुपातिक सम्‍पत्ति के मामले में पश्चिम मध्‍य रेलवे, बीना, जिला सागर (मध्‍य प्रदेश) के तत्‍कालीन कार्यालय अधीक्षक (कार्मिक) श्री महेन्‍द्र सिंह ठाकुर को 75,000 रू. जुर्माने के साथ चार वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई जॉंच से पता चला कि जॉच अवधि 01.07.2005 से 25.10.2010 के दौरान, श्री महेन्‍द्र सिंह ठाकुर ने सम्‍पत्ति अर्जित की जो कि उनके आय के ज्ञात स्रोत से 48,67,781 रू. (लगभग) अधिक थी। जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, जबलपुर (मध्‍य प्रदेश) की अदालत में आरोपी के विरूद्ध दिनांक 31.10.2011 को आरोप पत्र दायर हुआ।

विचारण अदालत ने आरोपी व्‍यक्तियों को कसूरवार पाया व उन्‍हे दोषी ठहराया।

********