सीबीआई एवं इन्‍टरपोल ने केमिकल बॉंयोलॉंजिकल रेडियोलॉंजिकल न्‍यूक्‍लीयर एक्‍सप्‍लोसिव्‍स (सी.बी.आर.एन.ई.) विषय पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 07.02.2019

सीबीआई एवं इन्‍टरपोल ने सी.बी.आर.एन.ई. (केमिकल बॉंयोलॉंजिकल रेडियोलॉंजिकल न्‍यूक्‍लीयर एक्‍सप्‍लोसिव्‍स) विषय पर संयुक्‍त रूप से तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया।

सी.बी.आर.एन.ई. विषय पर यह कार्यशाला इन्‍टरपोल के प्रोजेक्‍ट वाच मेकर (Watch Maker) के तहत आयोजित हुई जो कि इम्‍प्रोवाइज्‍ड डिवाइसेज (आई.ई.डी.), केमिकल एजेन्‍ट्स, बॉंयोलॉंजिकल एजेन्‍ट्स व टॉक्‍सीन्‍स की प्राप्ति, उत्‍पादन या प्रयोग और सी.बी.आर.एन.ई. पदार्थो को परिनियोजित (Deploy) करने के लिए उभरती तकनीकों के प्रयोग में व्‍यक्तिगत रूप से संलग्‍न सम्‍बन्धित देशों के द्वारा एकत्र की गई सूचना को समेकित करने हेतु विचार विमर्श करता है। इसके अतिरिक्‍त प्रोजेक्‍ट का उद्देश्‍य, इन्‍टरपोल डेटाबेस को विस्‍तार देना एवं विश्‍लेषणात्‍मक रिपोर्ट बनाना है, जो कि सी.बी.आर.एन.ई. पदार्थो के उभरते विकास ,कार्यनीति एवं उत्‍पादन पर प्रकाश डालता है।

सीबीआई जो कि इन्‍टरपोल का भारत में प्रतिनिधित्‍व करती है, ने भारतीय डोमेन विशेषज्ञों की व्‍यवस्‍था की एवं इस अन्‍तर्राष्‍ट्रीय कार्यशाला हेतु तैयारी की सुविधा प्रदान कर महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है। गृह मंत्रालय (MHA). व विदेश मंत्रालय (MEA) ने भी फ्रान्‍स इन्‍टरपोल स्‍टॉफ एवं बाग्‍लादेश से विशेषज्ञों के आगमन की सुविधा प्रदान करने में सक्रिय भूमिका निभाई।

कार्यशाला में सी.बी.आर.एन.ई., लियोन फ्रान्‍स के सब-डारेक्‍टोरेट से 04 डोमेन विशेषज्ञ सहभागी रहे। इस क्षेत्र के विशेषज्ञ एवं विभिन्‍न पदों के 10 पुलिस अधिकारी बाग्‍लादेश से रहे। भारतीय प्रतिनिधि मण्‍डल में एन.एस.जी, एन.आई.ए. और नेशनल बम्‍ब डेटा सेन्‍टर व अन्‍य विधि प्रर्वतन एजेन्सियों के विशेषज्ञ शामिल रहे।

तीन दिवसीय मंथन के दौरान, विशेषज्ञों ने सी.बी.आर.एन.ई., इन्‍टरपोल नोटिस प्रणाली तथा डेटा बेस के वैश्विक परिदृश्‍य पर अच्‍छा शोध प्रस्‍तुत किया, जिसे 194 इन्‍टरपोल सदस्‍य देशों में आसूचना संकलन एवं बम बनाने वालों को चिन्हित करने के लिए प्रभावी तरीके से प्रयोग किया जा सकता है। भारतीय विशेषज्ञों ने पिछले दो वर्षों के दौरान कई गम्‍भीर बम विस्‍फोट जिससे की जान माल की व्‍यापक हानि हुई थी, पर विस्‍तार से एवं अच्‍छा शोध प्रस्‍तुत किया।

इन्‍टरपोल टीम के प्रमुख ने भी वर्ष 2017 में हुई लंदन बमबारी पर विस्‍तार से विचार प्रकट किया जिसमें बताया गया कि कैसे केमिकल एवं पदार्थ सुपर मार्केट में स्‍वतंत्र रूप से उपलब्‍ध हैं जिनको अपरिष्‍कृत बम बनाने और जान एवं माल की व्‍यापक हानि पहॅुंचाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र में प्रयोग किया जा सकता है।

कार्याशाला का उद्घाटन पुलिस महानिदेशक, गोवा ने किया।

********