एक पत्रकार की हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में डेरा सच्‍चा सौदा के तत्‍कालीन प्रमुख सहित चार निजी व्‍यक्तियों को आजीवन कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 17.01.2019

सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश, पंचकूला (हरियाणा) ने सिरसा के समाचार पत्र के संपादक श्री राम चन्‍द्र छत्रपति की हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में निजी व्‍यक्तियों यथा डेरा सच्‍चा सौदा, सिरसा के तत्‍कालीन प्रमुख श्री गुरमीत राम रहीम सिंह ; कृष्‍ण लाल ; कुलदीप सिंह एवं निर्मल सिंह को आज सजा सुनाई जो निम्‍नवत है:


आरोपी गुरमीत सिंह, कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह एवं कृष्‍ण लाल
भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302आजीवन कारावास एवं प्रत्‍येक पर 50,000 रू. का जुर्माना
आरोपी निर्मल सिंह
शस्‍त्र अधिनियम की धारा 25तीन वर्ष की कठोर कारावास एवं 5,000 रू. जुर्माना
आरोपी कृष्‍ण लाल
शस्‍त्र अधिनियम की धारा 29तीन वर्ष की कठोर कारावास एवं 5,000 रू. जुर्माना
जैसा कि श्री गुरमीत राम रहीम सिंह मामला संख्‍या आर.सी.-5 (एस) 2002 /एस.आई.यू-एक्‍स वी/ चण्‍डीगढ़ से सम्‍बन्धित, पहले ही कारावास में है। अदालत ने फैसला सुनाया कि आजीवन कारावास की सजा, दण्‍ड प्रक्रिया संहिता की धारा 427 के प्रावधान के तहत पूर्व में सुनाई गई सजा के पूर्ण होने के बाद प्रारम्‍भ होगी।

सीबीआई ने माननीय पंजाब एवं हरियाणा उच्‍च न्‍यायालय के 10.11.2003 के आदेश पर मामला दर्ज किया और पूर्व में, सिरसा पुलिस स्‍टेशन में प्राथमिक जॉंच रिर्पोट संख्‍या 685/02 द्वारा दर्ज मामले की जॉंच को अपने हाथ में लिया। ऐसा आरोप था कि सिरसा के एक पत्रकार श्री रामचन्‍द्र छत्रपति, ‘पूरा सच’ नाम से एक समाचार पत्र प्रकाशित करते थे। डेरा सच्‍चा सौदा, सिरसा के कारपेन्‍टर कुलदीप सिंह व निर्मल सिंह के द्वारा 24.10.2002 (शाम) को उन्‍हे उनके सिरसा स्थित निवास पर गोली मारी गयी। उनका दिनांक 21.11.2002 को देहान्‍त हो गया। राज्‍य पुलिस ने कुलदीप सिंह व निर्मल सिंह को गिरफ्तार किया। उक्‍त डेरे का वॉकी-टॉकी एवं उक्‍त डेरे का प्रबन्‍धक आरोपी कृष्‍ण लाल की एक रिवाल्‍वर बरामद हुई। राज्‍य पुलिस के द्वारा मुख्‍य न्‍यायिक दण्‍डाधिकारी, सिरसा की अदालत में 05.12.2002 को कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह एवं कृष्‍ण लाल के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया गया।

पीडि़त के पुत्र ने माननीय पंजाब एवं हरियाणा उच्‍च न्‍यायालय , चण्‍डीगढ़ में दायर अपराधिक विविध याचिका संख्‍या -7931-एम, 2003 के द्वारा अपने पिता की हत्‍या में श्री गुरमीत राम रहीम सिंह की संलिप्‍तता का आरोप लगाया और जॉंच को सीबीआई स्‍थानान्‍तरित करने का निवेदन किया।

गहन जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई ने श्री गुरमीत राम रहीम सिंह एवं अन्‍य आरोपी कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह, कृष्‍ण लाल की संलिप्‍तता पाई एवं एस.जे.एम.आई.सी., सीबीआई, अम्‍बाला (अब पंचकूला में) की अदालत में उनके विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

विचारण अदालत ने आरोपियों को कसूरवार पाया व उन्‍हें 11.01.2019 को दोषी ठहराया।

********