निदेशक,के.अ. ब्‍यूरो ने सीबीआई अकादमी स्थित एक नई साइबर प्रयोगशाला का उद्घाटन एवं अकादमी द्वारा संकलित 04 पुस्‍तक व 07 संग्रह का भी विमोचन किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 30.07.2018

  श्री अलोक कुमार वर्मा, निदेशक के.अ. ब्‍यूरो ने सीबीआई अकादमी,  गाजि़याबाद स्थित वर्तमान आधार भूत सुविधाओं को बढ़ाने के उद्देश्‍य से चार नई सुविधाओं का उद्घाटन किया। इसमें, साइबर अपराध की जॉंच के प्रशिक्षण की बढ़ती मॉंग को पूरा करने के लिए नई साइबर प्रयोगशाला शामिल है। इस तीसरी साइबर प्रयोगशाला से सीबीआई के जॉंच अधिकारियों को प्रशिक्षण सुविधा मिलने की आशा है।

श्री वर्मा ने एक स्‍क्‍वाश का मैदान, दो बैडमिन्‍टन के मैदान, एक व्‍यायामशाला एवं अन्‍तर्राष्‍ट्रीय मानक का योगा केन्‍द्र सहित एक नए खेल परिसर का उद्घाटन किया।

निदेशक, के.अ. ब्‍यूरो ने सीबीआई अकादमी के द्वारा प्रकाशित 04 किताब व 07 संग्रह का भी विमोचन किया जिनमें निम्‍नलिखित कृतियॉं शामिल है:

‘ इन्‍वेस्‍टीगेशन ऑफ एन्‍टी-करप्‍शन केसेज ’: इस पुस्‍तक में भ्रष्‍टाचार के मामलों की सफलतापूर्वक जॉंच व अभियोजन हेतु सीबीआई के जॉंचकर्ताओं एवं अभियोजकों के लिए प्रभावशाली तथा कारगर तरीकों व प्रक्रियाओं पर सलाह का संग्रह है ;

‘ हैन्‍डलिंग ऑफ इलेक्‍ट्रोनिक इविडेन्‍स ‘ ; इस पुस्‍तक में न्‍यायालय के समक्ष प्रस्‍तुत करने के पहले इलेक्‍ट्रानिक साक्ष्‍यों को सही तरीके से संकलित करना, सत्‍यता बनाए रखना, गहन विश्‍लेषण एवं योजनाबद्ध प्रस्‍तुतिकरण के बारे में जमाकर्ताओं एवं अभियोजकों को सलाह दी गई है।

‘ साइन्‍टीफिक एड्स टू इन्‍वेस्‍टीगेशन एण्‍ड फोरेन्सिक मेडिसिन्‍स ‘ ; इस पुस्‍तक में फोरेंन्सिक परीक्षण एवं उनके साक्ष्‍य सम्‍बन्धि महत्‍व हेतु भौतिक साक्ष्‍यों का संग्रहण, प्रबन्‍धन, पैकिंग करने एवं आगे भेजने के लिए विभिन्‍न विधियों के प्रयोग की व्‍याख्‍या है। यह पुस्‍तक फोरेन्सिक मेडिसिन के बारे में बताती है जो कि अपराध के चिकित्‍सीय, कानूनी पक्षों पर आधारभूत जानकारी भी प्रदान करती है ; एवं

 ‘ साइन्‍टीफिक इन्‍वेस्‍टीगेशन एण्‍ड इन्‍टरब्‍यूव टेक्‍नीक्‍स ‘ ; यह पुस्‍तक साक्ष परीक्षा/ पूछ-तॉंछ की तकनीक के विभिन्‍न आयामों का विस्‍तार से परीक्षण करती है तथा गुप्‍त सूचनाओं को बाहर निकालने के लिए कानूनी आयामों सहित गवाहों/ संदिग्‍धों द्वारा दिए गए बयानों में झूठ का पता लगाने हेतु तकनीक की जानकारी प्रदान करती है।

कानूनी मामलों पर सात संग्रह का विमोचन हुआ जिनमें डाइजेस्‍ट ऑफ केस लॉंज ऑन चीटिंग, डाइजेस्‍ट ऑफ केस लॉंज ऑन कान्‍सपिरेसी, डाइजेस्‍ट ऑफ केस लॉज ऑन कॉनफेशन, डाइजेस्‍ट ऑफ केस लॉज ऑन ट्रैप केसेज एण्‍ड डाइजेस्‍ट ऑफ केस लॉज ऑन अब्‍यूज ऑफ आफिसियल पोजीशन शामिल है।

संकलन के महत्‍व पर जोर देते हुए श्री वर्मा ने कहा कि ‘‘इस तरह की पुस्तिकाऍं एवं संग्रह को इस संस्‍था के सेवानिवृत्‍त एवं सेवारत अधिकारियों के महत्‍वपूर्ण योगदान के साथ ही कड़ी मेहनत के पश्‍चात तैयार किया गया है। मेरा सदैव ही विश्‍वास रहा है कि संस्‍था भवन का बड़ा हिस्‍सा पुराने लोगो के अनुभव का दस्‍तावेज है, जिसे, नौजवान जॉंचकर्ताओं व अभियोजकों को मार्ग दर्शन देने के लिए विश्‍लेषित एवं परिष्‍कृत किया जा सकता है ’’।

इस अवसर पर अन्‍य उपस्थित अधिकारी गण जिनमें श्री राकेश अस्‍थाना, विशेष निदेशक, सीबीआई, श्री अरूण कुमार शर्मा, अतिरिक्‍त निदेशक,सीबीआई, श्री प्रवीण  सिन्‍हा, अतिरिक्‍त निदेशक एवं श्री ओ.पी. वर्मा, निदेशक अभियोजन एवं श्री भानु भाष्‍कर , संयुक्‍त निदेशक (प्रशिक्षण) शामिल हैं। इस समारोह में सीबीआई के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों/ कर्मियों व वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक गाजि़याबाद ने भी हिस्‍सा लिया।

********