सेक्‍स स्‍कैंडल मामले में बीएसएफ के तत्‍कालीन पुलिस उप-महानिरीक्षक तथा चार अन्‍यों को 10 वर्ष की कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 06.06.2018

सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, चण्‍डीगढ़ ने श्रीनगर के सेक्‍स स्‍कैंडल मामले में आज सीमा सुरक्षा बल(बी.एस.एफ.)के तत्‍कालीन पुलिस उप-महानिरीक्षक श्री के.सी. पाधी एवं सी.आई.डी., जम्‍मू एवं कश्‍मीर के तत्‍कालीन पुलिस उपाधिक्षक मो. अशरफ मीर को प्रत्‍येक पर एक लाख रू. जुर्माने सहित 10 वर्ष की कठोर कारावास तथा तीन निजी व्‍यक्तियों यथा शब्‍बीर अहमद लावेय उर्फ शब्‍बीर काला, शब्‍बीर अहमद लंगू उर्फ लोने और मसूद अहमद उर्फ मकसूद को प्रत्‍येक पर 50,000 रू. जुर्माने सहित 10 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई। अदालत ने आगे निर्देश दिया कि जुर्माने की धनराशि पीडि़ता की प्रतिष्‍ठा, सम्‍मान में हुई हानि व मानसिक शोषण और शिक्षा के अवसर खोने के बदले में मुआवजा के तौर पर भुगतान करने में प्रयुक्‍त होगी।

सीबीआई ने दिनांक 10.05.2006 को मामला दर्ज किया और पहले से पुलिस स्‍टेशन शहीद गंज, श्री नगर (जम्‍मू व कश्‍मीर) में दिनांक 14.03.2006 को दर्ज जाँच को अपने हाथों में लिया जिसमें शुरूवाती तौर पर एक शिकायत पर आरोप है कि एक फल विक्रेता ने एक नाबालिग लड़के से एक सीडी/ कैसेट प्राप्‍त किया जिसमें उनके मोहल्‍ले की लड़की से सम्‍बन्धित आपत्तिजनक फिल्‍म व फोटोग्राफ थे। जॉंच के दौरान ऐसा भी आरोप था कि एक नाबालिग लड़की सहित चार लड़कियों का यौन शोषण, आरोपी व्‍यक्तियों के द्वारा किया गया। इन लड़कियों को कथित रूप से श्रीनगर के एक होटल में ले जाया गया तथा आरोपियों में से एक आरोपी के घर पर भी शोषण हुआ।

गहन जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई ने नामित अदालत में नौ आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

विचारण अदालत ने पॉंच आरोपियों को कसूरवार पाया व उन्‍हें दोषी ठहराया। दो आरोपियों को अदालत के द्वारा बरी किया गया। दो अन्‍य आरोपियों की विचारण के दौरान मृत्‍यु हो गई।

********