श्री ज्‍योति नीपेन्‍द्र कुमार डे की हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में छोटा राजन सहित नौ आरोपियों को आजीवन कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 02.05.2018

विशेष न्‍यायाधीश, मकोका मामले, मुम्‍बई (महाराष्‍ट्र) ने मुम्‍बई के तत्‍कालीन पत्रकार श्री ज्‍योति निपेन्‍द्र कुमार डे की हत्‍या से सम्‍बन्धित मामले में नौ आरोपियों यथा सदाशिव निकल्‍जे उर्फ छोटा राजन ; रोहित तंगप्‍पन जोसेफ उर्फ रोही उर्फ सतीश काल्‍या उर्फ सर ; अनिल भानुदास वाघमोड़े ; अभिजीत काशीनाथ शिन्‍दे ; नीलेश नारायण रोडगे उर्फ बाबू ; अरूण जर्नादन डाके ; मंगेश दामोदर अगवाने ; सचिन सुरेश गायक वाड़ एवं दीपक दलबीर सिंह सिसोदिया को आज आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई ने महाराष्‍ट्र सरकार के निवेदन एवं इसके अतिरिक्‍त भारत सरकार की अधिसूचना पर मुम्‍बई के तत्‍कालीन पत्रकार श्री ज्‍योति नीपेन्‍द्र डे की कथित हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302/34 के साथ पठित शस्‍त्र अधिनियम की धारा 3, 25, 27 के तहत दिनांक 05.01.2016 को वर्तमान मामला पंजीकृत किया। सीबीआई ने पोवाई पुलिस स्‍टेशन, जिला मुम्‍बई, महाराष्‍ट्र पुलिस द्वारा पूर्व में दर्ज मामले की जॉंच को अपने हाथों में लिया। महाराष्‍ट्र पुलिस ने पूर्व में मुम्‍बई की नामित अदालत में आरोपी व्‍यक्तियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

सीबीआई ने श्री जे.डे. की हत्‍या के षड़यंत्र का खुलासा किया आरोपी राजेन्‍द्र सदाशिव निकल्‍जे उर्फ छोटा राजन को दिनांक 06.11.2015 को इण्‍डोनेशिया से लाया गया एवं सीबीआई के द्वारा एक अन्‍य मामले में गिरफ्तार किया गया। विकसित एवं वैज्ञानिक तकनीक को अपनाया गया तथा आरोपी की आवाज का नमूना भी लिया गया जो कि विशेषज्ञ की राय के अनुसार सुनी गई आपत्तिजनक कॉल के साथ मिलान करती है। सीबीआई ने छोटा राजन के आई फोन्‍स और आई-पैड भी जब्‍त किए एवं षड़यंत्र से जुड़े हुए विभिन्‍न आरोपियों से सम्‍बन्धित आपत्तिजनक डाटा प्राप्‍त किए। यह सिद्ध करने के लिए कि संगठित आपराधिक गिरोहों के सदस्‍यों के लिए आरोपी के साथी के द्वारा ग्‍लोबल रोमिंग सिम कार्डो की व्‍यवस्‍था की गई थी, के पर्याप्‍त प्रमाण भी एकत्र किए गये।

गहन जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई ने भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302, 34, 120-बी, 201 ; शस्‍त्र अधिनियम की धारा 3, 25, 27 ; बाम्‍बे पुलिस अधिनियम की धारा 37(1)(ए), 135 ; मकोका,1999 की धारा 3(1) (आई) 3(2), 3(4) के तहत विशेष न्‍यायाधीश, मकोका मामले, मुम्‍बई (महाराष्‍ट्र) की अदालत में दिनांक 05.08.2017 को पूरक आरोप पत्र दायर किया। दिनांक 31.08.2016 को आरोपी के विरूद्ध आरोप तय किए गए। विचारण के दौरान,155 गवाहों का अभियोजन पक्ष ने परीक्षण किया।

विचारण अदालत ने आरापियों को दोषी करार दिया एवं दो आरोपियों को बरी किया।

********