चारा घोटाले में 19 आरोपियों को सजा तथा भारी जुर्माने के साथ 3.5 वर्ष से लेकर 14 वर्ष की कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 24.03.2018

विशेष न्यायाधीश रॉंची ने चारा घोटाले में 19 आरोपियों को आज सजा सुनाई। आरोपियों को निम्नलिखित सजाएँ सुनाई गई।

मुम्बई, ग्वालियर तथा शिमला स्थित आरोपियों के 9 आवासीय व कार्यालयी परिसरों में तलाशी ली गई जिसमें बहुत से आपत्तिजनक दस्ता्वेज बरामद हुए।

क्र. सं.

नाम व पद

धारा

सजा

जुर्माना

1

अरूण कुमार सिंह, प्राइवेट व्यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

2

अजीत कुमार वर्मा, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

3

विमल कान्‍त दास, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

4

गोपी नाथ दास, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

5

के.के. प्रसाद, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

6

लालू प्रसाद, तत्‍कालीन मुख्‍यमंत्री

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

7 वर्ष की कठोर कारावास

30 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

7 वर्ष की कठोर कारावास

30 लाख रू. का जुर्माना

7

मनोरंजन प्रसाद, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

8

एम.एस.बेदी, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

9

नरेश प्रसाद, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

10

नन्‍द किशोर प्रसाद, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

11

ओ.पी. दिवाकर, तत्‍कालीन क्षेत्रीय निदेशक

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

7 वर्ष की कठोर कारावास

30 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

7 वर्ष की कठोर कारावास

30 लाख रू. का जुर्माना साथ में

12

पंकज मोहन भोई, तत्‍कालीन लेखाकार

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

13

पीताम्‍बर झा, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

14

पी.सी. सिंह, तत्‍कालीन सचिव

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

15

रघु नन्‍दन प्रसाद, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

16

राधा मोहन मण्‍डल, तत्‍कालीन पशु चिकित्‍सा अधिकारी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

17

रवि कुमार शर्मा, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

18

आर.के. बगारिया, प्राइवेट व्‍यक्ति

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

19

एस.के. दास, तत्‍कालीन ट्रेजरी सहायक

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 409, 467, 468, 471 के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(सी) व (डी) के तहत

3.5 वर्ष की कठोर कारावास

15 लाख रू. का जुर्माना

कारावास की सजाऍं एक के बाद एक चलेंगी।

सीबीआई ने वर्तमान मामला, माननीय पटना उच्चे न्यारयालय के द्वारा दिनांक 11.03.1996 एवं माननीय सर्वोच्चन न्यानयालय के द्वारा दिनांक 19.03.1996 को जारी आदेश के अनुपालन में दर्ज किया तथा दूमका टाऊन पुलिस स्टे्शन में पूर्व में दर्ज मामला संख्याे 16/96 की जॉंच को अपने हाथों में लिया। इस मामले में जाली दस्तारवेजों, पशु चारा की फ़र्जी आपूर्ति के बल पर दिसम्बीर 1995 से जनवरी 1996 के दौरान दुमका ट्रेजरी से 3.76 करोड़ रू. कपटपूर्ण तरीके से निकालने का आरोप है। ऐसा आगे आरोप था कि उक्तल अवधि के दौरान आवंटित1.5 लाख रू. के अल्पा वास्त विक बजट के विरूद्ध इस तरह की भारी निकासी की गई।

गहन जॉंच के पश्चातत, दिनांक 11.05.2000 को नामित अदालत में आरोप पत्र दायर किया। विचारण अदालत ने आरोपियों को कसूरवार पाया व उन्हें दोषी ठहराया।

********